तेनालीराम की कहानी: राजगुरु की चाल

राजा कृष्णदेव राय के दरबार में तेनालीराम की बुद्धि और चतुराई के किस्से काफी मशहूर थे। यही वजह थी कि राजगुरु के साथ-साथ राज्य के कई ब्राह्मण तेनालीराम को पसंद नहीं करते थे। वह समझते थे कि निम्न श्रेणी का ब्राह्मण होते हुए भी वह अपने ज्ञान से उन्हें नीचा दिखाता रहता है। इसी कारण सभी ब्राह्मणों ने मिलकर तेनालीराम से बदला लेने की सोची और राजगुरु के पास पहुंच गए। सभी ब्राह्मण जानते थे कि उनकी तरह राजगुरु भी तेनालीराम को पसंद नहीं करते। इसलिए, राजगुरु उनके इस काम में मदद जरूर करेंगे।

सभी ब्राह्मणों ने राजगुरु को अपने मन की बात बताई और मिलकर तेनालीराम से बदला लेने की एक योजना बनाई। उन्होंने सोचा क्यों न तेनालीराम को शिष्य बनाने का बहाना किया जाए। शिष्य बनाने के नियमानुसार शिष्य बनने वाले व्यक्ति के शरीर को दागा जाता है। इस तरह उनका बदला भी पूरा हो जाएगा और बाद में वह सभी उसे निम्न श्रेणी का ब्राह्मण बताकर शिष्य बनाने से इनकार कर देंगे। इससे वो सभी तेनालीराम को नीचा भी दिखा पाएंगे।

फिर क्या था, अगले ही दिन राजगुरु ने तेनालीराम को अपना शिष्य बनाने की बात बताने के लिए अपने घर बुलवाया। राजगुरु के निमंत्रण पर तेनालीराम राजगुरु के घर पहुंच गया और उसे बुलाने का कारण पूछा। राजगुरु ने कहा, ‘तुम्हारी बुद्धि और ज्ञान को देखते हुए मैं तुम्हें अपना शिष्य बनाना चाहता हूं।’

राजगुरु की यह बात सुनकर तेनालीराम को आभास हो गया कि कुछ तो गड़बड़ जरूर है। उसने राजगुरु से पूछा, ‘आप मुझे शिष्य कब बनाएंगे?’ राजगुरु ने कहा, ‘मंगलवार का दिन इस शुभ काम के लिए सही रहेगा।’ राजगुरु ने नए कपड़े देते हुए कहा, ‘तेनालीराम मंगलवार को तुम यह नए कपड़े पहन कर आना। तब मैं तुम्हें अपना शिष्य बना लूंगा और साथ ही तुम्हें 100 सोने के सिक्के भी दिए जाएंगे।’

राजगुरु की बात सुनकर तेनालीराम ने कहा, ‘ठीक है फिर मैं मंगलवार को सुबह आपके घर आ जाऊंगा।’ इतना कहकर तेनालीराम अपने घर चला आया। राजगुरु को तेनालीराम ने बिल्कुल भी आभास नहीं होने दिया कि उसे उनकी बात पर कुछ संदेह हो रहा है।

घर आकर तेनालीराम ने सारी बात अपनी पत्नी को बताई। सभी बातें सुनने के बाद तेनालीराम की पत्नी बोली, ‘आपको राजगुरु की बात नहीं माननी चाहिए थी। इसमें राजगुरु की जरूर कोई चाल होगी, क्योंकि बिना किसी मतलब के राजगुरु कोई काम नहीं करता है।’ पत्नी के मुंह से यह बात सुनकर तेनालीराम कहता है, ‘कोई नहीं, राजगुरु को तो मैं देख ही लूंगा।’

तेनालीराम ने अपनी पत्नी से कहा, ‘मुझे पता चला है कि कुछ दिन पहले कई ब्राह्मण राजगुरु के घर कोई सभा करने गए थे। उन ब्राह्मणों में सोमदत्त नाम का ब्राह्मण भी गया था। सोमदत्त को मैं अच्छी तरह जानता हूं। वह बहुत ही गरीब है और उसके घर की रोटी-पानी भी मुश्किल से चलती है। ऐसे में अगर मैं उसे कुछ सोने के सिक्के दूंगा, तो संभव है कि वह मुझे उस सभा में हुई सभी बातें बता देगा और मैं जान पाऊंगा कि आखिर राजगुरु के दिमाग में क्या चल रहा है?’

इतना कहते हुए तेनालीराम उठकर सोमदत्त के घर चला जाता है। सोमदत्त के हाथों में दस सोने के सिक्के रखते हुए तेनालीराम उस सभा में हुई सभी बातों के बारे में बताने को कहता है। पहले तो सोमदत्त कुछ भी बताने को तैयार नहीं होता, लेकिन कुछ देर मनाने के बाद वह 15 सोने के सिक्कों के बदले सब कुछ बताने को तैयार हो जाता है।

राजगुरु द्वारा तैयार की गई उससे बदला लेने की पूरी योजना जानने के बाद तेनालीराम राजगुरु को सबक सिखाने के लिए विचार करने लगता है। फिर मंगलवार के दिन तेनालीराम राजगुरु द्वारा दिए गए कपड़ों को पहनकर राजगुरु के घर शिष्य बनने के लिए पहुंच जाता है। शिष्य बनाने की विधि शुरू की जाती है और राजगुरु तेनालीराम को 100 सोने के सिक्के देते हुए वेदी पर बैठने को कहता है।

तेनालीराम भी झट से हाथ आगे बढ़ाकर सोने के सिक्के ले लेता है और शिष्य विधि को पूरा करने के लिए बैठ जाता है। तभी राजगुरु इशारा देकर साथी ब्राह्मणों से शंख और लोहे के चक्र को गर्म करने के लिए कहते हैं, ताकि विधि पूरी होने पर उससे तेनालीराम को वो दाग सकें।

विधि आधी ही पूरी हुई थी कि अचानक तेनालीराम दिए गए 100 सोने के सिक्कों में से 50 सोने के सिक्के राजगुरु पर फेंकता है और वहां से भाग खड़ा होता है। तेनालीराम को भागता देख राजगुरु और उनके साथी ब्राह्मण भी तेनालीराम के पीछे-पीछे भागने लगते हैं।

बचने की कोई स्थिति न दिखाई देने पर तेनालीराम सीधे भागता हुआ राज दरबार में पहुंच जाता है। वहां पहुंच कर तेनालीराम राजा कृष्णदेव राय को बताता है, ‘राजगुरु ने मुझे शिष्य बनने का निमंत्रण दिया था, मगर मुझे तब याद नहीं रहा कि मैं निम्न श्रेणी का ब्राह्मण हूं, जो राजगुरु का शिष्य नहीं बन सकता। जब यह बात मुझे याद आई तब तक आधी विधि पूरी हो चुकी थी। इसलिए, मैं राजगुरु द्वारा दिए गए 100 सोने के सिक्कों में से 50 सोने के सिक्के वापस करते हुए वहां से भाग आया। फिर भी राजगुरु मुझे जानबूझ कर दागना चाहते हैं, जबकि वास्तविकता में मैं उनका शिष्य बन ही नहीं सकता।’

जब राज दरबार में राजगुरु पहुंचे, तो राजा ने उनसे इस बारे में पूरी बात पूछी। तब राजगुरु ने अपना असली मंतव्य छिपाते हुए राजा से कहा, ‘मुझे भी बिल्कुल याद नहीं था कि तेनालीराम निम्न श्रेणी का ब्राह्मण है।’

इस पर राजा बोले, ‘तब तो तेनालीराम को उसकी ईमानदारी का ईनाम दिया जाना चाहिए।’ इतना कहते हुए राजा ने तेनालीराम को इनाम के रूप में एक हजार सोने के सिक्के भेंट किए।

कहानी से सीख

यह कहानी हमें सीख देती है कि दिमाग का इस्तेमाल करके बड़ी से बड़ी समस्या को आसानी से हल किया जा सकता है।

Was this article helpful?

मोबाइल नंबर और आधार कार्ड से स्टेटस चेक करें, सभी सवालों के जवाब – AllHindiPro

Mahtari Vandana Yojana Status Checkछत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शुरू की गई महतारी वंदन योजना में राज्य की बैठक सभी बहनों में ...
Read More

महतारी वंदन योजना का पैसा कैसे चेक करें

यदि आपने महतारी वंदन योजना में आवेदन कर दिया है और जानना चाहते हैं कि mahtari vandana yojana ka paise ...
Read More

महतारी वंदन योजना विभागीय लॉगिन

छत्तीसगढ़ में महतारी वंदन योजना के आवेदन शुरू हो चुके हैं इसके तहत प्रदेश में अलग-अलग जगह पर कैंप लगाकर ...
Read More

MP आवास योजना लिस्ट – AllHindiPro

मध्य प्रदेश की बहनों ने लाडली बहन आवास योजना का फॉर्म भरा था। उन बहनों के लिए एक बहुत ही ...
Read More

Mahtari Vandana Yojana Last Date: जल्दी आवेदन करें

छत्तीसगढ़ सरकार ने 21 वर्ष से अधिक उम्र की विवाहित महिलाओं को को आर्थिक रूप से सहायता प्रदान करने के ...
Read More

राजस्थान गोपाल क्रेडिट कार्ड योजना

राजस्थान सरकार के द्वारा आज बजट पेश किया गया जिसके अंदर को जो क्रेडिट कार्ड योजना शुरू की गई जिसके ...
Read More

छत्तीसगढ़ महतारी वंदन योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

छत्तीसगढ़ सरकार ने महिलाओं के आर्थिक हितों को ध्यान में रखते हुए cg mahtari vandana yojana online registration की प्रक्रिया ...
Read More

महतारी वंदन योजना स्वघोषणा शपथ पत्र PDF

यदि आप महतारी वंदन योजना के लिए पात्र हैं और आप इसका फॉर्म भरना चाहते हैं तो इसके लिए आपको ...
Read More

हरियाणा मुख्यमंत्री शहरी आवास योजना हेतु पंजीकरण शुरू 2024

Mukhyamantri Shehri Awas Yojana Haryana: यदि आप हरियाणा के स्थाई निवासी हैं और आप राज्य के शहरी क्षेत्र में रहते ...
Read More

Mahtari Vandana Yojana Chhattisgarh Form PDF Download करें – AllHindiPro

छत्तीसगढ़ की वह सभी विवाहित महिलाएं जो प्रति महीने ₹1000 यानी कि साल के 12000 रुपए का लाभ लेना चाहती ...
Read More

Leave a Comment